Margin Trading with ETF | Equity ETFs are Eligible for Margin Trading Facility

SEBI: Inclusion of Equity Exchange Traded Funds as list of eligible securities under Margin Trading Facility. अब आप Margin Trading with ETF कर सकते हैं।

Margin Trading with ETF

सेबी ने 30 नवंबर 2022 को सर्कुलर जारी किया जिसके अनुसार वे इक्विटी ETF (Exchange Traded Fund) जोकि ‘Group I security’ में वर्गीकृत हैं उनको Margin Trading Facilty (MTF) के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इस सुविधा का लाभ आप 31 दिसंबर 2022 से उठा पाएंगे। सेबी की ‘Group I security’ की परिभाषा के अनुसार, उस सिक्योरिटी में पिछले 6 महीने में 80% दिनों में ट्रेड हुआ हो और उनमें Impact Cost (1 लाख का buy/sell का ट्रेड करने में क़ीमत पर पड़ने वाला फर्क) 1% से कम हो।

Margin Trading with ETF

SEBI ने जून 13, 2017 के Circular No. CIR/MRD/DP/54/2017 में MFT के लिए व्यापक ढांचा जारी किया था। उसके बाद अगस्त 1, 2017 के Circular No. CIR/MRD/DP/86/2017 ब्रोकर MFT के लिए किस स्रोत से धन का इंतजाम कर सकते हैं, उसके बारे में बताया था। अब सेबी ने Margin Trading with ETF की अनुमति दे दी है।

Rules of MFT

MFT के लिए दिए गए ETF पर कम से कम 7.5% haircut के रुप में रखा जायेगा। जो ETF आप मार्जिन फंडिंग के लिए देंगे, उस  ETF को और जो शेयर या ETF आप इस फंडिंग अमाउंट से खरीदेंगे उन दोनों को अलग रखा जाएगा। अगर आपके द्वारा दिए गए ETF की कीमत बढ़ती है, तो आपको उतनी अतिरिक्त फंडिंग अमाउंट मिल जाएगी। किन्तु आपके द्वारा फंडिंग अमाउंट से खरीदे हुए शेयर या ETF की कीमत बढ़ने पर आपको अतिरिक्त फंडिंग नहीं मिलेगी।

उदाहरण के लिए आपने 1 लाख रूपये का ETF ब्रोकर के पास जमा करवाया। हेअरकट के बाद उसकी कीमत 92.5 हजार रूपये होगी। आपने 92.5 हजार रूपये का ETF और खरीद लिया। मान लीजिए की इस ETF की कीमत 20% की बढ़ोतरी हो जाती है, यानि 1.2 लाख रूपये हो गई। आपको अतिरिक्त 20 हजार रूपये में से 1500 रूपये हेअरकट कम करके 18500 रूपये की अतिरिक्त फंडिंग मिल जाएगी। आपके द्वारा खरीदे गए MFT वाले 92.5 हजार रूपये के ETF की कीमत भी बढ़ गई है किन्तु आपको MFT में खरीदे गए ETF पर अतिरिक्त फंडिंग नहीं मिलेगी।

Be Careful While Using MFT

Margin Trading with ETF, करते समय ध्यान दें कि आपके द्वारा MFT के लिए दिए गए ETF या स्टॉक की कीमत अगर कम हो जाती है तो आपको उतना अतिरिक्त अमाउंट ब्रोकर के पास जमा करवाना पड़ेगा।

उदाहरण के लिए आपने जो 1 लाख रूपये का ETF ब्रोकर के पास जमा करवाया। हेअरकट के बाद उसकी कीमत 92.5 हजार रूपये है। आपने 92.5 हजार रूपये का ETF और खरीद लिया। मान लीजिए की इस ETF की कीमत 20% कम हो जाती है यानि 80 हजार रूपये रह गई। आपको अतिरिक्त 20 हजार रूपये जमा करवाने होंगे।

List of ETFs for MFT

यह जानना भी जरूरी है कि कौन से ETF हैं, जो ‘Group I security’ की परिभाषा में आते हैं। दुर्भाग्यवश सिर्फ एक ETF है, जिस पर की Margin Trading with ETF संभव है। उस ETF का नाम है, Nippon India ETF Nifty 50 BeES (NIFTYBEES). इसके अतिरिक्त, कोई भी ETF इस श्रेणी में शामिल नहीं है। भविष्य में, हो सकता है कि कुछ और ETF इस श्रेणी में शामिल हों, जिन पर आप Margin Trading कर पाएं।

Margin trading with ETF से संबंधित अगर कोई अन्य जानकारी चाहिए तो कमेंट करके हमें बताएं।

अन्य पढ़ें:

Leave a Reply